आपकी handwriting आपके बारे में क्या बताती है!

किसी भी व्यक्ति की लिखावट से आप उस व्यक्ति के चरित्र के बारे में काफी कुछ जान सकते है।

दुनिया में कभी किसी ने सोचा भी नहीं होगा की मात्र किसी भी व्यक्ति की  handwriting उस व्यक्ति के चरित्र के बारे में काफी कुछ पता लगाया जा सकता हैं। वैसे कौन सोच सकता था की हमारी handwriting में भी कोई राज छिपा हुआ हो सकता है! जैसे कि कहा जाता है, ‘कलम की शक्ति तलवार की धार से कई गुना अधिक शक्तिशाली होती है।’ इस कथन के पीछे बहुत गहरा अर्थ छुपा हुआ है!  क्या आपको पता है कि किसी भी की handwriting से आप उस व्यक्ति के व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ पता कर सकते हैं? अगर आप लोग भी अपनी handwriting से अपने व्यक्तित्व के बारे में जानना चाहते हैं तो तैयार हो जाइये।

हम दावे से कहे सकते है कि इन जानकारियों से आप काफी हद तक सहमत ही होंगे क्योंकि ये काफी हद तक सही ही होती हैं! तो आईये जानते है कुछ ऐसी ही बातों के बारे में:-

1. आपकी Handwriting के अक्षरों का साइज़

छोटा अक्षर : अगर आप छोटे अक्षरों का इस्तेमाल करते हैं तो आपकी एकाग्रता बहुत अच्छी है, जीवन के प्रति भी आपका नजरिया संकीर्ण और अपने उद्देश्य के प्रति आपका ध्येय भी निश्चित होता है।

बड़ा अक्षर : अगर आप बड़े अक्षरों का इस्तेमाल करते हैं तो जीवन के प्रति आपका नजरिया बहुत ही खुला हुआ होता है और आप आसानी से बोरियत को महसूस नहीं करते है इसके साथ ही आपको मान सम्मान प्राप्त करने की बहुत इच्छा होती है!

2. लिखते समय अक्षरों पर दबाव

अधिक दबाव : यदि आप लिखते समय अक्षरों पर अधिक दबाव डालते है तो आप बहुत ही भावुक किस्म के इंसान है!
कम दबाव : लिखते समय यदि आप अक्षरों पर कम दबाव डालते है तो आप अपनी भावनाएं को जाहिर नही होने देते है!

3. Handwriting में अक्षरों के बीच का अंतर

कम अंतर : यदि आपकी लिखावट में अक्षरों के बीच का अंतर कम है तो आप समय के प्रबंधन में निपुण नहीं है।
बराबर अंतर : यदि आपकी लिखावट में अक्षरों के बीच का अंतर कम है तो आपका जीवन बेहद सुलझा हुआ होता है और चीज़ों का प्रबंधन अच्छे तरह से करने के साथ ही आप मानसिक रूप से भी काफी सुलझे हुए होते हैं।
अधिक अंतर : यदि आपकी लिखावट में अक्षरों के बीच का अंतर अधिक है तो आपको आज़ादी में रहना काफी पसंद है। साथ ही आपको व्याकुल होना भी पसंद नहीं है। तथा आपको अपना व्यक्तिगत दायरा काफी पसंद है।

4. आपकी Handwriting किस ओर झुकी है?

बायीं ओर : यदि आपकी handwriting बायीं ओर झुकी हुई है तो आप अंतर्मुखी हैं और आपको आजादी में रहना पसंद हैं।
दायीं ओर : यदि आपकी handwriting दायीं ओर झुकी हुई है तो आपको लोगों से मिलना-जुलना, घूमना-फिरना, बाते करना काफी पसंद है लेकिन वो भी आपके अपने मूड के हिसाब से ही।
सीधा : अगर आपकी handwriting सीधी है तो आप अपनी भावनाओं को अच्छे से नियंत्रित करना जानते हैं और भावनाओं को अपने मन मुताबिक ज़ाहिर करते हैं। चाहे किसी भी तरह का काम हो आप बहुत सोच समझ कर करते है।

5. आपके वाक्य किस दिशा में जाते हैं?

ऊपर : अगर आपके handwriting के वाक्य ऊपर की और जाते हैं तो आपका व्यक्तित्व आशावादी है और आप हर समय अच्छे मूड में रहने का कोशिश करते हैं।
नीचे : अगर आपके handwriting के वाक्य नीचे की और जाते हैं तो आप निराशावादी है और ये आपके तनावग्रस्त और थके हुए होने की तरफ इशारा करता है।
लहरदार : अगर आपके handwriting के वाक्य लहरदार हैं तो इससे पता चलता है कि आपका दिमाग स्थिर नहीं रहता है। और आप काफी चंचल स्वभाव के है।

6. आप अपने अक्षरों को कैसे जोड़ते है?

जुड़े हुए : अगर आपके handwriting में अक्षर जुड़े हुए हैं तो आप तार्किक, व्यवस्थित हैं और सोच समझ कर निर्णय लेते हैं।
अलग-अलग : अगर आपके handwriting में अक्षर अलग-अलग हैं तो आप बुद्धिमान हैं और साथ में सहज ज्ञान से परिपूर्ण हैं।

7. आप अंग्रेजी के ‘i’ letter को कैसे लिखते हैं?

चुलबुले आकार में : अगर आप अंग्रेजी के ‘i’ letter को चुलबुले आकार में लिखते है! तो आप बेहद चंचल और रचनात्मक स्वभाव के है! साथ ही आपको भीड़ से अलग हटकर दिखना पसंद है।
अव्यवस्थित : अगर आप अंग्रेजी के ‘i’ letter को आप अव्यवस्थित कर कर लिखते हैं तो आपको किसी भी तरह की अव्यवस्था पसंद नहीं और आप हर छोटी से छोटी बात पर नज़र रखते हैं।

8. अंग्रजी भाषा के ‘t’ letter की ऊपरी लाइन कैसे बनाते हैं?

ऊपर: अगर कोई व्यक्ति अंग्रजी भाषा के ‘t’ letter की ऊपरी लाइन को उपर की तरफ बनाते है तो ऐसे लोगों का आत्मसम्मान बहुत अधिक ऊंचा होता है और इसी वजह से ऐसे लोग दूसरों की तुलना में बहुत बड़ा सोचने की क्षमता रखते हैं।
नीचे : इसके विपरीत यदि कोई व्यक्ति अंग्रजी भाषा के ‘t’ letter की उपरी लाइन को नीचे की तरफ बनाते है तो ऐसे व्यक्ति में आत्मसम्मान की कमी पाई जाती है और ऐसे व्यक्ति अपनी काबिलियत के हिसाब से खुद को बहुत कम आंकते है। ऐसे व्यक्ति अक्सर अपनी काबलियत को नहीं पहचान पाते है।

Facebook Comments