प्राचीन काष्ट कला का अद्धभुत नमूना : मगरू महादेव मंदिर

हिमाचल को देव भूमि के नाम से भी जाना जाता है तथा यहाँ के सभी मंदिर अपनी-अपनी विशेषता लिए हुए हैं. ऐसा ही एक मंदिर है मगरू महादेव जो एक बहुत ही प्राचीन मंदिर है. छतरी गांव में स्थित मगरू महादेव मंदिर कुल्लू जिला के आनी से मात्र आठ किलोमीटर, मंडी से 158 किलोमीटर तथा करसोग से 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

10982359_401227290055139_223586212743089631_n

मगरू महादेव का मंदिर प्राचीन काष्ट कला का एक अद्धभुत नमूना है. मन्दिर में दीवारों पर लकड़ी की नक्काशी , इसकी ख़ूबसूरती में चार चाँद लगा देती है. मगरू महादेव मंदिर सतलुज वर्गीय शैली में तीन मंजिलों में है, जो उत्तरी भारत के उत्कृष्ट मंदिरों में स्थान रखता है. बाहर से साधारण लगने वाला यह मंदिर अंदर से पूर्णतया नक्काशी से सजा पड़ा है, जिसमें चित्रकारी के माध्यम से कई युगों का जिक्र किया गया है. 13वीं शताब्दी में निर्मित इस मंदिर के भीतर शिव और पार्वती की पाषाण प्रतिमाएं दर्शनीय हैं. वर्ष भर यहां मेलों का आयोजन होता रहता है तथा दूर-दूर से लोग यहां दर्शन के लिए आते हैं.

पढ़ें: माता सिमसा मंदिर – संतान देने वाली शिशु-दात्री शारदा माता

यह मंदिर दो छोटी- छोटी नदियों के बीच छतरी नाम के स्थान पर स्थित है. यह एक खूबसूरत जगह पर, पहाड़ों से घिरा हुआ है. श्रद्धालु दूर-दूर से यहाँ मन्नत मांगने और पूजा करने आते है. मगरू महादेव किसी को भी निराश नहीं करते और सबकी झोली भर देतें है.

11923260_742378609227263_2469720082292657528_n

पढ़ें: पहाड़ी वजीर : देव पशाकोट की महिमा

मंदिर में मेले लगते रहते है, छतरी मेला उन में से सबसे प्रसिद्ध है. यह मेला अगस्त महीने में दिनांक 15 से शुरू हो के 20 अगस्त तक चलता है. यह मेला देखने लोग दूर -दूर से आते है, और मेले का मुख्य आकर्षण लोक गायक होते हैं जो मेले की शोभा को और बढ़ाते हैं. इस मेले के अलावा इस मंदिर में और भी मेले होते है.जैसे छतरी लबी, छतरी ठहिरषु आदि.

मंदिर में हर महीने (साजा) में लोग आते है और अपने दुःख दर्द बताते है.हर साल मगरू महादेव सभी नजदीकी गांवों की यात्रा करते हैं.

मंदिरों से सम्बंधित सभी ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

Facebook Comments