शिवरात्रि महोत्सव की अंतिम संध्या में चला सरताज का जादू

मंडी: अंतर्राष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव की अंतिम सांस्कृतिक संध्या में सतिंद्र सरताज का जादू पड्डल मैदान सहित छोटी काशी की सड़कों तक खड़े लोगों के सिर चढ़कर बोला। पंजाबी गायक सतिंद्र सरताज ने अपनी लोक गायकी और विशेष अंदाज में ऐसा समां बांधा कि दर्शक लगभग एक घंटे तक झूमते रहे। मंडी शिवरात्रि की छठी एवं अंतिम सांस्कृतिक संध्या सतिंद्र सरताज के नाम रही। उन्होंने अपनी बेहतरीन प्रस्तुतियों से दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। उन्होंने कार्यक्रम की शुरूआत साईं वे साडी फरियाद तेरे ताईं भजन से की। इसके बाद उन्होंने एक से बढ़कर एक गाने पेश कर अंतिम संध्या को यादगार बना दिया।

पाश्र्व गायक पूर्ण शिवा ने नचाए दर्शक


संध्या का आगाज सूरजमणि के शहनाई वादन से हुआ। अंतिम संध्या में राज्यपाल आचार्य देवव्रत मुख्यातिथि थे। डी.सी. संदीप कदम ने उन्हें स्मृतिचिन्ह भेंट किया। संध्या में मंडी संसदीय क्षेत्र के सांसद रामस्वरूप शर्मा व सराज हलके के विधायक जयराम ठाकुर भी मौजूद रहे। पहाड़ी बेटे और मायानगरी मुंबई में स्थापित हो चुके पाश्र्व गायक पूर्ण शिवा ने हिंदी व पंजाबी गाने गाकर दर्शकों को थिरकने के लिए विवश कर दिया। उन्होंने दर्दे दिल …, गुलाबी आंखें जो तेरी देखीं… और चन्ना मेरेया… सहित अन्य गाने सुनाए। पूर्ण शिवा सोलन से संबंध रखते हैं और अब मुंबई में नामी गायकों के साथ पाश्र्व गायकी कर रहे हैं।

इन कलाकरों ने भी लूटी वाहवाही
इस दौरान मंडी पब्लिक स्कूल, एन.सी. मॉडल स्कूल, हिमांशु म्यूजिकल ग्रुप, बलदीप म्यूजिकल ग्रुप, रोहित सागर, कमल ठाकुर, खेमू चौहान, सूजल, विशाल कुमार, विपिन सकलानी, लाभ सिंह, आरोही, पल्लवी, विशेष सिंह, जितेंद्र कुमार, विकास, थारी लाल, रजनी, मोहन गुलेरिया, अनिल कुमार, कला एवं संस्कृति ग्रुप, सुशील कुमार, झंकार म्यूजिकल ग्रुप, प्रिया बंसल, जयंत भारद्वाज, हरि म्यूजिकल ग्रुप, जैरी भरमौरी ग्रुप, युवावती गुलेरिया, महक, रोहित, लतेश कश्यप, उपेंद्र सिंह, शीतल म्यूजिकल ग्रुप व शिवाली राठौर ने अपनी प्रस्तुतियों से दर्शकों की वाहवाही लूटी।

स्रोत : पंजाब केसरी

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।