माँ दुर्गा के नौ रूपों की उपासना का पर्व : नवराते

आप सभी को चैत्र नवराते और हिन्दू नववर्ष की हार्दिक बधाई. हिन्दू नववर्ष और चैत्र नवरात्र का आरंभ इस वर्ष 25 मार्च बुधवार से हो रहा है। इस वर्ष चैत्र नवराते 25 मार्च से शुरू होंगे और 2 अप्रैल को समापन होगा. हिंदू धर्म में नवरातों का बहुत बड़ा महत्व माना गया है। इस दौरान माता के भक्त मां को प्रसन्न् करने के लिए पूरे 9 दिनों तक उपवास रखते हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार आश्विन और चैत्र नवरात्र में माता पृथ्वी पर आने के लिए अपने एक खास वाहन का इस्तेमाल करती हैं। माता के वाहन को देखकर ज्योतिषशास्त्र से जुड़े लोग आने वाले साल की स्थिति का आंकलन करते हैं।

 

बुधवार से शुरू हो रहे नवराते

इस साल चैत्र नवरात्र 2020 बुधवार से शुरू हो रहे हैं। देवी भागवत पुराण के अनुसार माना जाता है कि यदि नवरात्रि के व्रत बुधवार से शुरू होते हैं तो मां वैष्णों नाव पर सवार होकर अपने भक्तों से मिलने आती हैं। आइए जानते हैं ज्योतिषशास्त्र में क्या है इसका मतलब।

मां की सवारी नाव होने का मतलब

मां की सवारी नाव होने का मतलब यह है कि इस साल खूब वर्षा होने वाली है। जिसकी वजह से आम लोगों का जीवन प्रभावित होने के साथ बाढ़ आदि जैसी प्राकृतिक आपदा भी आ सकती है। जिसकी वजह से जन-धन को बड़ा नुकसान हो सकता है।

 

हाथी पर होगी मां की विदाई

चैत्र नवरात्रि का समापन 2 अप्रैल, वीरवार को होगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार माता की विदाई हाथी पर होने वाली है। माता का वाहन हाथी होने का मतलब है कि इस साल बारिश अच्छी होने वाली है। जो कृषि के लिहाज से बेहतर होगा। इसके अलावा नववर्ष के मंत्री चंद्रमा और राजा बुध होने का मतलब है कि आने वाला वर्ष अर्थवयवस्था के लिए बेहतर रहेगा।

सभी सुखी रहें

सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया,सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दुःख भागभवेत. अर्थात सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी मंगलमय के साक्षी बनें और किसी को भी दुःख का भागी न बनना पड़े।

 

जय माता दी

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।