कोहणे को तो कोह गया!

 

इक बारी इक मंडयाली किसान घा रेड़ना डाला ऊपर था चढ़ीरा कने डाला गे रिड्की गया कने तीसरा मुंड फटी गया. कुसकी सेह होस्पिटला जो लेई नीता. डाक्टरे हिंदिआ मंझ पूछ्या, “यह कैसे हुआ?”

marcobumpinhead

किसान:
कोहणे को तो कोह गया
पर लोह न सका
नीचे था जम्मण का ठुंड
ठुंड में पड़ा मुंड
और मुंड में भोका पो गया

 

पसंद आये तो शेयर करें

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।