थोड़ी सी बातों पर ध्यान देने से संवर सकता है आपके बच्चे का भविष्य

स्कूल जाने वाले बच्चों के अभिभावक थोड़ा सा ध्यान अपने बच्चों की तरफ अगर दें तो काफी हद तक अपने बच्चों का भविष्य संवारा जा सकता है. हमें अपने बच्चों को शिक्षा के साथ अच्छे संस्कार भी देने चाहिए ताकि वो जीवन में सफल और सही इन्सान बन सके। हमें अपने अनुभव के आधार पर अपने बच्चों का जीवन सुंदर और स्वस्थ बनाने में उनकी सहायता करना चाहिए। शिक्षा विभाग में कार्यरत राजनीतिशास्त्र के प्रवक्ता हरि राम चंदेल द्वारा बताए गए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स यहाँ बताए जा रहे हैं जो आपके बच्चे के विकास में सहायक होंगे.

1.रात 8 बजे तक टेलीविजन बंद कर दें। टेलीविजन पर आठ बजे के बाद आपके बच्चे से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं होता है।

2. अपने बच्चे की स्कूल डायरी देखने के लिए 30-35 मिनट निकालिए। उसके गृहकार्य पूरे कराइए।
3. रोज सभी विषयों में बच्चों का खास ध्यान रखिए जिसमें वे कमजोर हैं या अच्छा नहीं कर रहा है। 
4. उनकी बुनियादी शिक्षा भविष्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। 


5. उन्हें सुबह जल्दी उठने की आदत डालिए 5:30 बजे तक। उन्हें मेडिटेशन, ध्यान लगाने का प्रशिक्षण दीजिए। 


6. अगर आप पार्टी या सामाजिक आयोजन में जाते हैं और बच्चों के साथ इसमें देर रात तक रहते हैं तो अगले दिन बच्चे को आराम करने दीजिए यानि स्कूल मत भेजिए. अगर आप चाहते हैं कि बच्चा अगले दिन स्कूल जाए तो रात 10:00 बजे तक घर लौट आइए। 


7. अपने बच्चों में पौधे लगाने और उनका ख्याल रखने की आदत का विकास कीजिए।


8. सोने के समय में अपने बच्चों को पंचतंत्र, अकबर-बीरबल, तेनाली राम आदि की कहानी सुनाइए। 


9. हर साल गर्मी की छुट्टी में (अपने बजट के अनुसार) कहीं घूमने जाइए। इससे वे अलग लोगों के साथ और अलग
जगहों पर रहना सीखते हैं। 


10. अपने बच्चे की प्रतिभा का पता लगाइए और उसे इसे निखारने में सहायता कीजिए. आपका बच्चा भी किसी विषय, संगीत, खेल, अभिनय, चित्रांकन, नृत्य आदि में दिलचस्पी रखता है. उसे पहचानने की कोशिश कीजिए. इससे उसका जीवन आनंददायक हो जाएगा। 


11. उसे सिखाइए कि प्लास्टिक का उपयोग नहीं करना चाहिए. प्लास्टिक से बने बर्तनों में खाने या पीने के दुष्प्रभाव बच्चे को बताएं.

12. हर रविवार कोशिश कीजिए कि खाने की कोई ऐसी चीज बनाएं जो आपके बच्चे को पसंद है। उन्हें इसमें अपनी मदद करने के लिए कहिए। आपके बच्चे को अच्छा लगेगा.


13. प्रत्येक बच्चे जन्म से वैज्ञानिक होते हैं, उनके पास ढेरों सवाल होते हैं, मुमकिन है हम जवाब न दें पर जानकारी न होने के कारण हमें सवाल पर गुस्सा नहीं दिखाना चाहिए। सवाल का उत्तर पता करने की कोशिश कीजिए औऱ उन्हें बताइए.


14. उन्हें अनुशासन और जीने के बेहतर तरीकों के बारे में बताइए। सही गलत के बारे में समझाइए.


15. दाखिले के लिए किसी स्कूल के सर्वश्रेष्ठ होने संबंध में निर्णय कॉरपोरेट स्कूल या पास प्रतिशत ज्यादा होने या परिचितों, पड़ोसियों की सिफारिश या सरकारी स्कूल या कम बजट वाला स्कूल होने के आधार पर मत कीजिए। सबसे अच्छा स्कूल वह है जो आपके बजट के लिहाज से उपयुक्त हो। भविष्य में आपको बच्चे की शिक्षा पर ज्यादा खर्च करने की जरूरत है। इसलिए आपको आज कुछ पैसे बचाने की जरूरत है। इसके अलावा दूसरे खर्चे तो हैं ही। इसलिए योजना सोच समझकर बनाइए। 


16. अपने बच्चों में खुद पढ़ने और सीखने की आदत डालिए। 


17. अपने बच्चों को मोबाइल फोन का उपयोग न करने दें. आवश्यक होने पर अपनी देखरेख में ही बच्चों को मोबाइल का प्रयोग करने दें.


18. बच्चे को अपने काम में सहायता करने के लिए कहिए। इसमें खाना बनाना, सफाई, चीजों को व्यवस्थित करना शामिल है।


19. और सबसे महत्त्वपूर्ण कि हमें अपने बच्चों को शिक्षा के साथ अच्छे संस्कार भी देने चाहिए ताकि वो जीवन में सफल और सही इन्सान बन सके। हमें अपने अनुभव के आधार पर अपने बच्चों का जीवन सुंदर और स्वस्थ बनाने में उनकी सहायता करना चाहिए। यदि ये पोस्ट सार्थक लगे तो शेयर ज़रूर करें ।

जोगिन्दरनगर की लेटेस्ट न्यूज़ के लिए हमारे फेसबुक पेज को
करें।