रातोंरात किस्मत खुलते ही पेंटर बना करोड़पति

ऊना : एक पुरानी कहावत है कि भगवान जब भी देता है छप्पर फाड़कर देता है. यह कहावत हिमाचल प्रदेश में ऊना जिला के गाँव चुरूडू के रहने वाले एक साधारण व्यक्ति संजीव कुमार पर सही साबित हुई. पेंटर का काम कर अपने परिवार को पालने वाले इस व्यक्ति की किस्मत रातोंरात खुल गई और करोड़पति बन गया. संजीव की पंजाब स्टेट लाटरी दीवाली बम्पर में 2.5 करोड़ की रुपए की लाटरी लगी है.लाटरी निकलने की सूचना मिलते ही संजीव के घर में ख़ुशी की लहर है.

पेशे से है पेंटर

संजीव पेशे से पेंटर है इसके अलावा वह प्लंबर और इलेक्ट्रीशियन का काम भी करता है. संजीव पिछले तीन सालों से लाटरी डालकर अपनी किस्मत आजमा रहा था लेकिन इस बार दीवाली बम्पर ने संजीव की किस्मत ही बदल दी.

बच्चों की शिक्षा पर करेगा खर्च

संजीव का कहना है कि वह इनामी राशि को बच्चों के भविष्य और अपने लिए व्यवसाय शुरू करने की योजना बना रहा है. संजीव के घर पर उसकी पत्नी और एक बेटा और बेटी हैं. संजीव का कहना है कि उसने कभी भी नहीं सोचा था कि उसे इतनी बड़ी इनामी राशि निकलेगी.

नंगल के पास खरीदी थी लाटरी

संजीव ने बताया कि वह पीजीआई चंडीगढ़ में अपने बेटे का चेकअप करवाकर वापिस आ रहा था तबी नंगल पंजाब में बस अड्डे के पास उसने लाटरी का स्टाल देखा और ए और बी सीरीज की दो लाटरी टिकट खरीद ली. इनमें से एक लाटरी संजीव ने खुद चुनी जबकि एक लाटरी उसने अपने बेटे के हाथ से निकलवाई. जो लाटरी की टिकट संजीव के बेटे ने चुनी थी उसी टिकट पर इनाम निकला है.

राशि का करे सही उपयोग

संजीव के पिता का कहना है कि उसने अपने बेटों को बिजली और प्लम्बर का काम सिखाया है और उसके बेटे अपने काम को दिल लगाकर करते हैं. वहीँ किशोरी लाल ने बेटे संजीव को इनामी राशि का सही से उपयोग करने की भी नसीहत दी है.

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।