सर्दियों का फुटवेयर : ‘पूळां’ (Poola),

कुछ लोगों पता भी न हो कि यह क्या है ? दरअसल ये हैं ‘पूळां’ (Poola), हिमाचल का पारम्परिक फुटवेअर. ये एकमात्र ऐसा फुटवेअर है, जिसे रसोईघर में चूल्हे के पास तक लाया जा सकता है और पूजा पाठ वाली जगह पर भी.

12250159_1243959445619114_7228953910038898265_n

एक वक्त था जब चमड़े के जूते पहनना प्रदेश मे ठीक नहीं माना जाता था. शायद इतने संसाधन भी नहीं होते थे. तब इन्हें ही इस्तेमाल किया जाता था और आज भी कई गांवों में इनका प्रयोग किया जाता है. भांग के पौधे को सुखाकर निकाले गए रेशों से ये चप्पलें बनाई जाती हैं.

इन्हें घर के अंदर ही नहीं, बल्कि बर्फ पर चलने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है. चंबा में ज्यादा चलन रहा है वैसे तो इसका, मगर हिमाचल प्रदेश से बाहर भी कुछ जगहों पर भी पूजा-पाठ, विवाह या अन्य धार्मिक कार्यों के दौरान इन्हें पहना जाता है.

साभार : आदर्श राठौर और इन हिमाचल

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।