शीतकालीन सत्र के पहले दिन विपक्ष ने किया वाकआउट

धर्मशाला : प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन का पहला सत्र हंगामें की भेंट चढ़ गया. शोकोदगार के समाप्त होते ही मुख्यमंत्री ने दो नये सदस्यों विशाल नेहरिया व रीना कश्यप का स्वागत किया. इसके तुरंत बाद ही विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने नियम 67 के तहत स्थगन प्रस्ताव के अंतर्गत इंवेस्टर मीट को लेकर सदन में चर्चा की मांग उठाई.

इन्वेस्टर मीट सबसे बड़ा घोटाला

मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि इन्वेस्टर मीट प्रदेश के इतिहास में सबसे बड़ा घोटाला हुआ है. सरकार हिमाचल को बेचने की तैयारी में है. अफसर भी हिमाचल को लुटाने की फ़िराक में हैं जोकि कांग्रेस ऐसा होने नहीं देगी. उसी समय विपक्ष ने भी हल्ला मचाना शुरू कर दिया.

दोनों ओर से शुरू हुई बहसबाजी

दोनों ही ओर से बहसबाजी शुरू हो गई. सत्ता पक्ष ने विपक्ष के खिलाफ ‘चोर मचाए शोर’के नारे लगाना शुरू कर दिए.विपक्ष ने ‘बेच दिया भई बेच दिया सारा हिमाचल बेच’ दिया और ‘अली बाबा चालीस चोर’ के नारे लगाना शुरू कर दिए. इसी हंगामें के बीच विपक्ष ने सदन से वाकआउट कर दिया.

 

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।