वाटर हार्वेस्टिंग टैंक ने खींची भीड़

मंडी — रविवार को मंडी में आयोजित रेडक्रास मेले में जहां विभिन्न विभागों तथा संस्थाओं ने विभिन्न उत्पाद पेश किए, वहीं सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग ने मेले के माध्यम से लोगों का ध्यान विश्व के सामने सबसे बड़े पेयजल संकट की ओर आकर्षित किया। सिंचाई एवं जन स्वास्थय विभाग की मंडी शाखा की ओर से मेले में रेन वाटर हार्वेस्टिंग टैंक के मॉडल को प्रस्तुत किया, जिसमें वर्षा के जल को संग्रहण करने की तकनीक के बारे में लोगों को विस्तार से बताया गया। इधर, पुलिस महकमे की ओर से भी मेले में स्टाल लगाया गया, जहां पर बंदूक से निशाना साधते लोग नजर आए। गौरतलब है कि देश ही नहीं, अपितु विश्वभर के अनेक देश भी पेयजल संकट को लेकर आशंकित हैं।

आने वाले समय में पानी की किल्लत सभी देशों के लिए चुनौती रहेगी, इसके लिए सरकारी और निजी स्तर पर कई संस्थाएं प्रयासरत हैं। सरकारी स्तर पर स्कूलों में बनने वाले भवनों में अब इस तकनीक को अनिवार्य कर दिया गया है। मंडी जिला की बात की जाए तो कुल 473 पंचायतों में से 319 पंचायतों में ग्राम जल एवं स्वच्छता समिति का गठन कर लिया गया है, जिसके माध्यम से पंचायतों में जल संग्रहण तथा स्वच्छता के बारे में लोगों को जागरूक किया जाता है, शेष अन्य पंचायतों में भी समितियों का गठन किया जा रहा है। रेडक्रास मेले में लगाए गए स्टाल में बैठे सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य महकमे के कर्मी उत्तम सिंह ने बताया कि वर्षा जल को संग्रहित कर इसे उपयोग में लाया जा सकता है। इससे हम जहां वर्षा के जल को व्यर्थ में बहने से रोक सकते हैं, वहीं इससे पेयजल की बचत भी होगी, जो कि आने वाली पीढि़यों के लिए फायदेमंद रहेगी। इधर, पुलिस महकमे की ओर से भी रेडक्रास मेले में स्टाल लगाया गया, जहां पर विभागीय अधिकारियों के अलावा अन्य लोग निशाना साधते दिखाई दिए।

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।