सुख समृद्धि और खुशहाली प्रदान करने वाली माँ : शूलिनी देवी

माता शूलिनी देवी का मंदिर हिमाचल प्रदेश के सोलन शहर के दक्षिण में शीली मार्ग के किनारे विराजमान है. इस मंदिर में माता शूलिनी के अतिरिक्त शिरगुल देवता, माली देवता इत्यादि की प्रतिमाएं मौजूद हैं. इस मंदिर में माता शूलिनी के अतिरिक्त शिरगुल देवता, माली देवता इत्यादि की प्रतिमाएं मौजूद हैं. जनश्रुति के अनुसार माता शूलिनी सात बहनों में से एक थी. अन्य बहनें हिंगलाज देवी, जेठी ज्वाला जी, लुगासना देवी, नैना देवी और तारा देवी के नाम से विख्यात हैं. माता शूलिनी देवी के नाम से सोलन शहर का नामकरण हुआ था.

सोलन नगर बघाट रियासत की राजधानी हुआ करती थी. इस रियासत की नींव राजा बिजली देव ने रखी थी. बारह घाटों से मिलकर बनने वाली बघाट रियासत का क्षेत्रफल 36 वर्ग मील में फैला हुआ था. इस रियासत की प्रारम्भ में राजधानी जौणाजी, तदोपरांत कोटी और बाद में सोलन बनी. राजा दुर्गा सिंह इस रियासत के अंतिम शासक थे. रियासत के विभिन्न शासकों के काल से ही माता शूलिनी देवी का मेला लगता आ रहा है.

11986318_1649027855381850_2139188809939067969_n

जनश्रुति के अनुसार बघाट रियासत के शासक अपनी कुलश्रेष्ठा की प्रसंन्नता के लिए मेले का आयोजन करते थे. लोगों का विश्वास है कि माता शूलिनी के प्रसन्न होने पर क्षेत्र में किसी प्रकार की प्राकृतिक आपदा व महामारी का प्रकोप नहीं होता है बल्कि सुख-समृद्धि व खुशहाली आती है. मेले की यह परंपरा आज भी कायम है.

बदलते परिवेश के बावजूद भी यह मेला अपनी प्राचीन परंपरा को संजोए हुए है. इस मेले का इतिहास बघाट रियासत से जुड़ा है. मेले का शुभारंभ हर वर्ष माता शूलिनी देवी की शोभा यात्रा से होता है, जिसमें माता की पालकी के अलावा विभिन्न धार्मिक झांकियां निकाली जाती है, जिसमें हजारों की संख्या में लोग माता शूलिनी के दर्शन व मनौती अर्पित करके सुख समृद्धि के लिए आर्शीवाद प्राप्त करते हैं. पारंपरिक लोक वाद्यों एवं लोक धुनों के बीच जब माता की पालकी शहर से गुजरती है तो मनमोहक दृष्य देखते ही बनता है जो हर व्यक्ति को भक्ति व आन्नंद सागर में डूबने को मजबूर करता है.

शोभायात्रा के संपन्न होने के पश्चात् माता की पालकी शहर के मध्य स्थित माता के एक अन्य मंदिर में तीन दिन तक लोगों के दर्शनार्थ रखी जाती है. प्रदेश सरकार द्वारा मां शूलिनी मंदिर को धार्मिक पर्यटन के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से माता शूलिनी मंदिर न्यास का गठन किया गया है.

मेले को आकर्षक बनाने के उद्देश्य से मेले में सांस्कृतिक कार्यक्रम,खेलकूद प्रतियोगिताएं, बेबी शो, पेट शो, फलावर शो, विकासात्मक प्रदर्शनियां व विशाल दंगल का आयोजन किया जाता है. सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रदेश के विभिन्न जिलों से लोक नर्तक दलों के अलावा पड़ोसी राज्यों व फिल्मी दुनियां के मशहूर पाश्र्व गायकों को आमंत्रित किया जाता है ताकि मेले में आए लोगों का भरपूर मनोरंजन हो सके.

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।