बिलिंग में पैराग्लाइडरों को मिल रहीं धमकियां

विश्व प्रसिद्ध पैराग्लाइडिंग घाटी बिलिंग में बाहरी क्षेत्रों के पायलटों को उड़ान न भरने देने का मामला फिर सुर्खियों में आ गया है। चौंतड़ा व नैनीधार के युवा पायलटों ने टैंडम व अन्य उड़ानें न करने देने के विरोध में आवाज बुलंद की है।

मुख्यमंत्री से मिला शिष्टमंडल

इसी के चलते युवा पायलटों का शिष्टमंडल मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से जिला मंडी खेल प्रकोष्ठ के संयोजक अभिनय ठाकुर की अध्यक्षता में तपोवन में शीतकालीन सत्र के दौरान मिलकर उन्हें पूरी स्थिति से अवगत करवाकर मामले की छानबीन व जांच करवाने की मांग करेगा।

 

लाइसेंस के बावजूद हो रही मनाही

बीड़ बिलिंग घाटी के टेक ऑफ प्वाइंट से जिला कांगड़ा के बीड़ व अन्य स्थानीय पायलटों द्वारा बीते कई माह से टैंडम व अन्य फ्लाइटों की उड़ानें नहीं भरने दी जा रही हैं। अभिनय ठाकुर ने कहा कि जिला मंडी के चौंतड़ा व आसपास के एक दर्जन पायलटों जिन्होंने उड़ान भरने के लाइसैंस ले रखे हैं और उड़ान भरने पर हानि पहुंचाने की धमकियां भी दी गई थीं परंतु अब वे अन्याय सहन नहीं करेंगे। इसी संदर्भ में अभिनय ठाकुर व सगनेहड़ पंचायत प्रधान केहर सिंह की अध्यक्षता में युवा पायलटों की बैठक आयोजित की गई, जिसमें आगामी कार्रवाई पर विचार-विमर्श किया गया।

पायलट दे रहे क्षेत्रवाद को बढ़ावा

अभिनव ठाकुर ने कहा कि इस सारे प्रकरण बारे जिला पर्यटन अधिकारी कांगड़ा को भी पत्र लिखा गया है और आगामी कार्रवाई अमल में लाने की मांग की है ताकि जिला मंडी के चौंतड़ा, नैनीधार व अन्य स्थानों के युवा पायलट टैंडम फ्लाइटों के माध्यम से अपने परिवार का पालन-पोषण कर सकें। अभिनय ठाकुर ने आरोप लगाते हुए कहा कि बीड़ क्षेत्र के कुछ लोग व पायलट क्षेत्रवाद की बात कर पैराग्लाइडिंग एसोसिएशन पर अपना कब्जा कायम रखना चाहते हैं। उनके मंसूबों को कभी पूरा नहीं होने दिया जाएगा, चाहे इसके लिए अब उन्हें संघर्ष की राह क्यों न अपनानी पड़े।

अधिकारीयों का क्या है कहना

एस.डी.एम. शाहपुर व कार्यकारी जिला पर्यटन अधिकारी जगन ठाकुर ने कहा कि मुझे मामले की अभी कोई जानकारी नहीं है और पायलटों के शिकायत पत्र मिलते ही आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी तथा अगर लाइसैंसशुदा कोई पायलट टैंडम व अन्य उड़ान भरना चाहता है तो उसे कोई भी स्थानीय पायलट नहीं रोक सकता है।

जोगिन्दरनगर की लेटेस्ट न्यूज़ के लिए हमारे फेसबुक पेज को
करें।