ब्यास नदी में अवैध खनन के चलते लामबंद हुए कोठी गाँव के लोग

जोगिन्दरनगर : लडभड़ोल तहसील की तुलाह और उटपुर पंचायत के पास बह रही ब्यास नदी से रेत और बजरी निकालने हेतु बुधवार को मंडी स्थित एडीसी कार्यालय में बोलियाँ लगाई गई.

बाढ़ का खतरा हुआ पैदा

अवैध खनन के चलते नाराज तुलाह पंचायत के कोठी गाँव के लगभग 20- 25 लोगों ने इस बोली को रद्द करने के लिए मंडी में धरना प्रदर्शन दिया. प्रदर्शन कर रहे लोगों ने आरोप लगाया कि अवैध खनन से गाँव में बाढ़ आने का खतरा पैदा हो गया है. ग्रामीणों ने बताया कि नदियों में होने वाले अवैध खनन पर सुप्रीम कोर्ट ने प्रतिबंध लगाया हुआ है इसके बावजूद कुछ लोग व्यास नदी से लगातार अवैध तरीके से खनन कर रेत चोरी कर रहे हैं.

 

अवैध खनन से गाँव को पैदा हुआ खतरा

कोठी गाँव के नजदीक रेत निकालने के कारण गाँव को खतरा पैदा हो गया है.ग्रामीणों की शिकायत सुनने के बाद सिटी एडीसी मंडी ने कोठी गाँव की रेत निकालने हेतु बोली को स्थगित कर दिया.एडीसी मंडी ने लोगों को भरोसा दिलाया कि भूवैज्ञानिक विभाग से इस बारे रिपोर्ट तलब की जाएगी. अगर रिपोर्ट में खनन से कोठी गाँव को खतरे वाली बात होगी तो भविष्य में वहां खनन की इजाज़त नहीं दी जाएगी.

ग्रामीणों ने बंद किया नदी को जाने वाला रास्ता

ग्रामीणों का कहना है कि कोठी गाँव से नदी को जाने वाले रास्ते को बंद कर दिया गया है. उन्होंनें कहा कि वे किसी भी तरह से रेत का अवैध खनन नहीं होने देंगे. कुछ लोग रेत का अवैध खनन कर मोटी कमाई कर रहे हैं. अवैध खनन के कारण पर्यावरण को भी खतरा पैदा हो रहा है. वहीं उटपुर पंचायत के सांढा, भ्रां तथा तैण गाँव के लिए नीलामी बिना किसी रुकावट के सफल रही. इन क्षेत्रों में किसी ने अभी विरोध दर्ज़ नहीं करवाया है.

जोगिन्दरनगर की लेटेस्ट न्यूज़ के लिए हमारे फेसबुक पेज को
करें।