सायर यानि “सैर” : सौभाग्य के प्रतीक के रूप में मनाये जाने वाला पर्व

हिमाचल प्रदेश में तीज-त्यौहार पहाड़ी संस्कृति के परिचायक हैं. यहाँ हर त्यौहार और उत्सव का अपना विशेष महत्व है. क्रमानुसार भारतीय देसी महीनों के बदलने और नए महीने के शुरू होने के प्रथम दिन को सक्रांति कहा जाता है. एक ऐसा ही पर्व है सायर यानि सैर जिसे खासकर जिला मंडी में बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है.

एकरसता के प्रतीक हैं ये पर्व

लगभग हर सक्रांति पर हिमाचल प्रदेश में कोई न कोई उत्सव मनाया जाता है जो कि हिमाचल प्रदेश की पहाड़ी संस्कृति का प्राचीन भारतीय सभ्यता या यूं कहें तो देसी कैलेंडर के साथ एकरसता का परिचायक है.

लम्बे समय से चला आ रहा है यह पर्व

इस उत्सव को मनाने के पीछे एक धारणा यह है कि प्राचीन समय में बरसात के मौसम में लोग दवाईयां उपलब्ध न होने के कारण कई बीमारियों व प्राकृतिक आपदाओं का शिकार हो जाते थे तथा जो लोग बच जाते थे वे अपने आप को भाग्यशाली समझते थे तथा बरसात के बाद पड़ने वाले इस उत्सव को ख़ुशी ख़ुशी मनाते थे. तब से लेकर आज तक इस उत्सव को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है.

सैर पूजन की सामग्री

sair-jncom

सायर से एक दिन पहले घर में कुछ जरूरी चीजों को इकट्ठा कर लिया जाता है. इन जरूरी चीजों को अपने घर के आंगन में इष्ट देव के पास एक टोकरी में रख दिया जाता है. सायर से एक दिन पहले जो-जो चीजें इकट्ठा करनी होती हैं वे निम्नलिखित हैं:

धान का पौधा
तिल का पौधा
कोठा का पौधा
एक दाडू
एक पेठा
एक मक्की
कुछ अखरोट
ककड़ी
एक पुराना सिक्का
एक खट्टा
एक कचालू का पौधा आदि

सैर पूजन

अगली सुबह मुहं-सवेरे ही सायर की सामग्री वाली टोकरी को घर के अन्दर लाया जाता है. इस टोकरी में गणेश जी को स्थापित कर सारी सामग्री की पूजा की जाती है. रक्षा बंधन को बंधी डोरी को भी आज ही के दिन खोला जाता है और उसे भी सायर के पात्र में रख दिया जाता है.

विसर्जन

परिवार के सभी सदस्य एक एक करके सायर के पात्र को माथे से लगा लेते हैं और प्रार्थना करते हैं कि जिस प्रकार इस बार सुखपूर्वक आई है आगे भी ऐसे ही आते रहना. सायर पूजन के बाद उसे गौशाला में घुमाया जाता है और फिर पानी में विसर्जित कर दिया जाता है.

अखरोट का महत्व

सायर उत्सव में अखरोट का विशेष महत्व है. सायर से कुछ दिन पहले ही अखरोट पेड़ से उतार लिए जाते हैं उनका छिलका निकालने के बाद उन्हें धुप में सुखाया जाता है और सायर उत्सव के लिए उन्हें सम्भाल कर रख लिया जाता है.

बड़ों को दी जाती है राल

सैर के दिन सैर पूजन की सामग्री का पानी में विसर्जन करने के बाद घर, पड़ोस व रिश्तेदारों में राल यानि अखरोट की भेंट दी जाती है. यह राल दूर्वा, फूलों व अखरोटों की होती है. राल देने के बाद अपने से बड़ों के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया जाता है.

wall-nut

हफ्ता भर चलता था सैर पर्व

लगभग दो दशक पहले तक यह उत्सव आठ दिनों तक मनाया जाता था. लोग अपने सगे सम्बन्धियों के पास अखरोट व पकवानों की भेंट ले जाते थे और इस उत्सव को बड़े ही प्यार और ख़ुशी के साथ मनाते थे. इस दिन लोग कई तरह के पकवान बनाते थे. पकवानों में पतरोडू, कचौरियां, भल्ले, खीर, बबरू आदि बनाये जाते थे. इन पकवानों को घर परिवार के लोग दूध,दही,घी,मक्खन और शहद के साथ बड़े ही स्वाद के साथ खाते थे.

swalu

दुल्हनें भी आती हैं ससुराल

भादों यानि काले महीने में मायके गई नवेली दुल्हनें भी असूज/आश्विन मास शुरू होते ही इस दिन अपने ससुराल वापिस आ जाती हैं. प्रथा है नयी दुल्हने काले महीने में अपनी सास के लिए शुभ नहीं होती इसलिए वे अपने मायके में ही रहतीं हैं।

पशुओं के साथ भी है इस पर्व का सम्बन्ध

इस दिन पालतू पशुओं को सैरू घास चराया जाता था. सैरू घास वह घास होता है जिसे बरसात में जंगल में पशुओं के लिए बचा कर रखा जाता था और सायर के दिन पशुओं को उस स्थान पर चराया जाता था.

इसी दिन नाई भी अपनी टोकरी में सैर सजा कर घर घर जाता था और पकवानों का मजा लेता था.

अखरोट की बाजी

सुबह सुबह ही लोग गाँव में अखरोट खेलने के लिए भीड़ लगा देते थे और दिन भर हार जीत की बाज़ी चलती थी. अखरोट खेलने के लिए भी एक विशेष जगह कुछ दिन तैयार की जाती थी जिसे खीती कहते थे. कुछ दूरी से क्रमानुसार अखरोट फैंके जाते थे. खीती से अखरोट की दूरी के अनुसार खेलने वाले की बारी आती थी. इस दिन जुर्माना भी रखा जाता था. अगर किसी का निशाना चूक जाता और किसी और अखरोट में निशाना लग जाता तो जुर्माने के रूप में अखरोट देना पड़ता था.

एक ख़ास तरह का बड़ा व कठोर अखरोट होता था, जिससे निशाना लगाया जाता था। इसे भुट्टा कहते थे. भुट्टा मालिक अपना भुट्टा उधार देता था और उसके बदले में एक अखरोट लेता था.

लेकिन अब वो बात कहाँ

खेद का विषय है कि वर्तमान में भौतिकता के वातावरण ने सब कुछ बदल दिया है. आज की पीढ़ी इन सब बातों से किनारा कर रही है जोकि प्राचीन संस्कृति के लिए घातक है. आज लोग समय का बहाना बना कर ऐसे उत्सवों से दूर होते जा रहे हैं तथा दिन प्रतिदिन इस तरह के उत्सव सिमटते जा रहे हैं जोकि प्रदेश की संस्कृति को खतरा हैं.

अब नहीं दिखती हैं गाँव में टोलियाँ

न आज गाँव में वो अखरोट खेलने वालों की टोलियाँ होती हैं न ही इस तरह के पकवान बनाये जाते हैं. लोग आज घर में उत्सव मनाने के बजाय होटलों तक ही सिमट गए हैं.

इन पर्वों के लिए थोड़ा समय जरूर निकालें

आज जरूरत है इस प्रकार के तीज त्यौहारों को मिलजुल के मनाने की ताकि आपसी भाईचारा कायम रहे व हमारी संस्कृति भी जिन्दा रहे.

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।