4 साल बाद ताबूत में लौटे हिमाचल के बेटों का हुआ अंतिम संस्कार

शिमला : अपना और अपने परिवार का भविष्य संवारने का सपना लिए रोजगार की तलाश में इराक गए हिमाचल के 4 बेटे एक दिन ऐसे लौटेंगे ऐसी कल्पना शायद ही किसी ने की होगी। 4 वर्षों के लंबे इंतजार के बाद जिस परिवार को अपने घर के सदस्य के जीवित होने की उम्मीद थी वो उम्मीद अवशेष घर पहुंचने के बाद पूरी तरह से टूट गई। इराक के मोसुल में आई.एस. द्वारा मारे गए हिमाचल के युवकों का मंगलवार को उनके पैतृक गांव में पूरे रीति रिवाज के साथ अंतिम संस्कार किया गया। हर तरफ चीख पुकार गूंज रही थी।

  1. सुन्दरनगर का हेमराज

मंगलवार सुबह करीब 10 बजे जैसे ही हेमराज के मृत शरीर के अवशेष का ताबूत घर पहुंचा तो पूरा माहौल गमगीन हो गया। हर चेहरा मायूस था और हर आंख नम थी। दुख इस बात का भी था कि किसी को भी अंतिम दर्शनों का मौका नहीं मिल सका। क्योंकि अवशेष इस हालत में नहीं थे कि उन्हें दिखाया जा सके। इसलिए ताबूत को बंद ही रखा गया। मृतक हेमराज की पत्नी निर्मला देवी ताबूत के घर पहुंचते ही बेसुध हो गई। करीब आधे घंटे तक अवशेषों के ताबूत को घर पर रखा गया और इसके बाद इसे एम्बुलेंस के माध्यम से ही शमशानघाट ले जाया गया। जहां हेमराज के 8 वर्षीय स्पुत्र ध्रुव ने अपने पिता को मुखाग्नि दी।

2. फतेहपुर का संदीप राणा

फतेहपुर के कस्बा धमेटा के संदीप राणा के अंतिम संस्कार में प्रशासन की ओर से एसडीएम फतेहपुर और बीजेपी प्रदेश महासचिव कृपाल परमार रहे उपस्थित रहे।बदनसीब माता पुष्पा देवी व पिता दिलावर सिंह ने अपने बेटे को नम आंखों से अंतिम विदाई दी। गौर रहे कि संदीप राणा परिवार का इकलौता सहारा था। 76 साल के पिता दिलावर सिंह पर अब परिवार के लालन पालन की जिम्मेदारी आ गई है।

3. कांगड़ा का अमन शर्मा

कांगड़ा के पास्सू के अमन शर्मा का भी उनके पैतृक गांव में पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान प्रभावित परिवार ने भी सरकार से राहत की गुहार लगाई। पूरा पासु क्षेत्र अमन के अंतिम संस्कार के समय गमगीन था। परिवार वालों का रो-रो कर बुरा हाल था। 4 साल के लंबे इंतजार के बाद परिजन अंतिम बार अमन का मुंह भी नहीं देख पाए।

4. लंज का इन्द्रजीत सिंह

लंज के इंद्रजीत सिंह का भी अंतिम संस्कार कर दिया गया। उसके भतीजे आयुष (8 साल) ने उन्हें मुखाग्नि दी। इस मौके पर पिता परदेसी राम का रो-रोकर बुरा हाल था। जवान बेटे को खोने के बाद बुजुर्ग बाप की आंखों से आंसू थमने का नाम तक नहीं ले रहे थे।

जोगिन्दरनगर की लेटेस्ट न्यूज़ के लिए हमारे फेसबुक पेज को
करें।