वाहनों के भार से जल्द मुक्त होगा मंडी का एतिहासिक विक्टोरिया पुल

मंडी : 1877 में मंडी रियासत के तत्कालीन राजा विजय सेन ने ईनाम में जीती कार को शहर तक पहुंचाने के लिए अंग्रेजी हकूमत से ब्यास नदी पर एतिहासिक विक्टोरिया पुल का निर्माण करवाया था. अब लगभग 142 वर्षों के लंबे इंतजार के बाद मंडी शहर का ऐतिहासिक विक्टोरिया पुल वाहनों के भार से मुक्त होने जा रहा है. विक्टोरिया पुल के साथ 25 करोड़ की लागत से नया पुल बनकर तैयार हो गया है. इस पुल के उदघाटन के लिए सीएम का इंतजार किया जा रहा है.

अंग्रेजों ने किया था निर्माण

राजाओं के राज और अंग्रेजी हकूमत में निर्माण कार्यों को कितनी निष्ठा के साथ किया जाता था, इसका जीता जागता उदाहरण मंडी शहर की वो प्राचीन इमारतें हैं जो आज भी उसी शान-ओ-शौकत के साथ खड़ी हैं जैसी अपने निर्माण के वक्त थी. इन्हीं में से एक है 142 वर्ष पुराना विक्टोरिया पुल.

 

विक्टोरिया पुल के नाम से है मशहूर

1877 में मंडी रियासत के तत्कालीन राजा विजय सेन ने ईनाम में जीती कार को शहर तक पहुंचाने के लिए अंग्रेजी हकूमत से ब्यास नदी पर पुल का निर्माण करवाया था. अंग्रेजों ने एक लाख की लागत में इंग्लैंड में बने विक्टोरिया पुल की तरह यहां पर भी पुल का निर्माण किया और इसे भी विक्टोरिया पुल का ही नाम दिया गया. हालांकि, इसे ’’पुल केसरी’’ के नाम से भी जाना जाता है.

सभी वाहनों की होती थे आवाजाही

1877 में बना यह पुल आज 142 साल का हो चुका है. जब भ्यूली में पुल नहीं था, जो पठानकोट से कुल्लू-मनाली के लिए जाने वाले सभी प्रकार के छोटे-बड़े वाहन इसी पुल से होकर जाते थे. बाद में भ्युली पुल बना तो यहां से बड़े वाहनों की आवाजाही बंद कर दी गई और शहर के लिए जाने वाले छोटे वाहनों को यहां से जाने की अनुमति दी गई.

2015 में हुआ था शिलान्यास

पूर्व मंत्री और सदर के विधायक अनिल शर्मा ने जब विक्टोरिया पुल के साथ नए पुल की जरूरत को महसूस किया तो उन्होंने नए पुल के निर्माण को विधायक प्राथमिकता में शामिल किया. वर्ष 2015 में उन्होंने तत्कालीन सीएम वीरभद्र सिंह इसका शिलान्यास और 18 करोड़ के बजट का प्रावधान भी करवाया. नवंबर 2016 में पुल का निर्माण कार्य शुरू हुआ और तीन वर्षों के बाद नया पुल बनकर तैयार हो गया है. पुल का निर्माण सुंदरनगर के क्लास वन कांट्रेक्टर अजय शर्मा ने किया है. अब तक इस पुल के सारे निर्माण पर 25 करोड़ की राशि खर्च हो चुकी है.

विधायक अनिल शर्मा ने जताई प्रसन्नता

विधायक अनिल शर्मा ने पुल बनने पर प्रसन्नता जताई और इसे शहर वासियों के लिए एक बड़ी सौगात बताया है. उन्होंने कहा कि पुल के बनने से पुरानी मंडी और खलियार सहित शहर के लोगों को भी बेहतर सुविधा मिल पाएगी. विधायक अनिल शर्मा ने पुल बनने पर प्रसन्नता जताई और इसे शहर वासियों के लिए एक बड़ी सौगात बताया है. उन्होंने कहा कि पुल के बनने से पुरानी मंडी और खलियार सहित शहर के लोगों को भी बेहतर सुविधा मिल पाएगी.

पैदल चलने के लिए रखा जाएगा खुला

लोक निर्माण विभाग डिविजन नंबर 2 के अधिशाषी अभियंता केके शर्मा ने बताया कि पुल बनकर पूरी तरह से तैयार हो गया है. नए पुल से वाहनों की आवाजाही शुरू होने के बाद ऐतिहासिक विक्टोरिया पुल को यातायात के लिए पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा. इस पुल को सिर्फ पैदल चलने वालों के लिए रखा जाएगा और समय-समय पर इसकी उचित मुरम्मत और देखरेख भी की जाएगी.

साभार : news 18 हिंदी

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।