जे मेरे हाथा मंझ सरकार हुंदी

इक बारी इक शराबी बोलदा – जे मेरे हाथा मंझ सरकार हुंदी ता मै देशा री तकदीर बदली देणी थी ।
ए सुणीके तीसरी घरवाली बोलदी – कंजरा पैहले आपणा पजामा ता पाई लै भ्यागा ते मेरी सलवार पाई फिरदा ।
-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।