आस्था का प्रतीक है कुराटी में स्थित सिद्ध श्री बाबा बालक नाथ मंदिर

जोगिन्दरनगर : जोगिन्दरनगर उपमंडल के तहत पिपली कनेहड़ गाँव डाकघर कुराटी में स्थित है सिद्ध बाबा बालक नाथ नौण का मंदिर. इस मंदिर का निर्माण पुजारी टेक चंद तथा पजैली कला देवी ने 1957 में इस पवित्र स्थान घुघ टोहल गुफा नौण में किया था.

पुजारी टेक चंद जब कई वर्ष रहे बीमार

पुजारी टेक चंद बीमार रहते थे.कभी चल फिर भी नहीं सकते थे.बहुत इलाज करवाने पर भी वो ठीक नहीं हो पाए.लगभग 12 वर्ष तक वो बिस्तर पर पड़े रहे.उनके पांव में सूजन रहती तथा कभी कभी उनके पैर भी फट जाते.लोग इस डर से टेक चंद के घर भी नहीं आते थे.वे सोचते थे कि शायद उन्हें छूत की बीमारी हो गई है. उनके परिवार में उनकी बूढ़ी माँ उनके चार बच्चे तथा पत्नी थी.घर की दशा बड़ी ही दयनीय थी. घर में रोजगार का कोई भी साधन नहीं था.

बालक रूप में जब बाबा ने दिए दर्शन

1957 की बात है जब चैत्र महीने में नवरात्रे की पहली रात को टेक चंद अर्ध निद्रा में थे तो बाबा जी बालक रूप में प्रकट हुए तथा बातचीत करने लगे. बालक ने कहा : “टेक चंद मैं आपकी भक्ति से प्रसन्न हूँ आओ मेरे साथ चलो.” बालक के ऐसा कहते ही टेक चंद की आँख खुल गई तथा टेक चंद को खेल आ गई.

जंगल में गुफा में किया बाबा ने वास

खेलते खेलते टेक चंद घने जंगल की ओर चल दिए.जैसे ही घने जंगल में पहुंचे खेलते खेलते वो घुघ टोहल के ऊपर चढ़ गये और जोर जोर से खेलने लगे. चिल्लाने की आवाज़ सुनकर गाँव वाले भी वहां पहुँच गये.बालक ने कहा कि मैं बाबा बालकनाथ हूँ.बाबा ने कहा कि इस पत्थर के नीचे जो गुफा है मैं यहाँ वास करना चाहता हूँ. तुम लोग मेरा मंदिर यहाँ बनाओ तब से यह मंदिर यहाँ बना हुआ है.

 

फिर टेक चंद हुए बिलकुल ठीक

टेक चंद जो कभी चल फिर नहीं सकते थे वे बिलकुल ठीक हो गये और वो यहाँ मंदिर की स्थापना कर यहाँ पूजा पाठ करने लगे यहाँ सबसे पहले छोटे से मंदिर का निर्माण कार्य हुआ. पुजारी टेक चंद यहाँ रहने लगे लोगों को इस चमत्कार की वजह से आस्था बढने लगी. आस पास के आऊं के लोग मंदिर में आने जाने लगे पूरा इलाका भक्तिमय हो गया. लोगों को रामगुण मिलने लगा.

निसन्तानों पर हुई बाबा की कृपा

विशेषकर उन लोगों को जिनके संतानें नहीं होती थी व मंदिर में दिन वार काटने लगे और मनचाह फल पाने लगे.चरों तरफ सुखशांति छाने लगी टेकचंद और उनकी पत्नी के गुजरने के बाद उनके चरों पुत्र मंदिर की पूजा पाठ करने लगे बाबा जी की अपर कृपा होने लगी.

आज हो रहा मंदिर का भव्य निर्माण

बाबा की कृपा से ही आज मंदिर का विशाल निर्माण हो रहा है लोग बच चढ़कर मंदिर निर्माण कार्य में सहयोग कर रहे हैं नवरात्रों के उपलक्ष में यहाँ प्रतिदिन भंडारे का आयोजन किया जाता है यहाँ भागवत कथा का भी आयोजन किया जाता है.

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।