2800 बीघा में बनेगा मंडी हवाई अड्डा

मंडी : प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट बल्ह का हवाई अड्डा जल्द ही धरातल में लाने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है। एसडीएम बल्ह स्मृतिका नेगी ने बताया कि राज्य सरकार के केंद्र सरकार के साथ एमओयू के बाद हवाई अड्डा धरातल पर लाने के लिए काम शुरू हो गया है।

उन्होंने कहा कि डीसी मंडी के दिशा निर्देश अनुसार आजकल पब्लिक यूटिलिटी के बारे में सर्वे चला हुआ है, जिसके तहत जो जो क्षेत्र बल्ह हवाई अड्डे में आ रहे हैं, उनमें जो भी सरकारी संपत्तियां हैं। इसमें सड़कें हैं, कार्यालय हैं, कूल्हे हैं, स्कूल हैं, पटवार खाने हैं, पंचायत घर हैं।

इन सब की एक सूची बनाने के लिए एसडीएम ने संबंधित विभागों के अधिकारियों को आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि शनिवार तक यूटिलिटी सर्वे की रिपोर्ट आ जाएगी, उसके बाद ही बल्ह में लैंड एक्विजिशन के लिए प्रक्रिया शुरू होगी।

उन्होंने कहा कि बल्ह एयरपोर्ट के लिए 2800 बीघा से ज्यादा जमीन का अधिग्रहण होगा, जिसमें 370 बीघा सरकारी जमीन है, जबकि करीब 2500 बीघा निजी भूमि का अधिग्रहण होगा। उन्होंने कहा कि जैसे ही यूटिलिटी सर्वे की रिपोर्ट आती है, उसके बाद अगले दिशा-निर्देशों के अनुसार प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

उन्होंने माना कि इस हवाई अड्डे को लेकर विरोध भी होगा, मगर उन्होंने लोगों से अपील की है कि इस हवाई अड्डे से लोगों को कई तरह के रोजगार भी मिलेंगे। उन्होंने कहा कि यह हवाई अड्डा सात मुहालों को जोड़कर बनाया जाएगा, जो कि बल्ह के टंवा से शुरू होकर दोयदा के जंगल तक जाएगा। एमओयू साइन होने के बाद अब प्रशासन जिस तरह से हरकत में आया है।

जोगिन्दरनगर की लेटेस्ट न्यूज़ के लिए हमारे फेसबुक पेज को
करें।