कोटरोपी हादसा: चांदनी गाँव के युवा फौजी को नम आँखों से दी विदाई

जोगिन्दरनगर: कोटरोपी गाँव में हुए दिल दहला देने वाले भूस्खलन में कई लोगों ने अपनी जान गवाई है. इस घटना से समूचे हिमाचल में शोक की लहर है. वहीँ टिकरू पंचायत के चांदनी गाँव का फौजी सनी भी इस हादसे का शिकार हुआ है.

3 वर्ष पहले हुआ था सेना में भर्ती

उपमंडल के तहत टिकरू पंचायत के निवासी 22 वर्षीय सनी कुमार पुत्र तिलक राज मंडी से बाइक पर जोगिन्दरनगर की और आ रहा था जब वह लैंडस्लाइड का शिकार हो गया. सनी 3 साल पहले सेना (जी.डी.) में भर्ती हुआ था. सनी छुट्टियों में अपने घर आया हुआ था.

माँ के आपरेशन के लिए कर रहा था तैयारी

सनी की माँ अस्वस्थ चल रही थी तथा आजकल उनका आपरेशन भी तय था लेकिन होनी को कुछ और ही मंज़ूर था. सनी अपने कार्य के सिलसिले में मंडी गया हुआ था. बाइक में घर आते समय रात को हादसे का शिकार हो गया. सनी की मौत का समाचार सुनते ही पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई. सनी अपने पीछे माँ बाप और 2 बहनें छोड़ गया है.

रविवार को मिला था शव

मृतक का शव रविवार को राहत और बचाव कार्य में लगे लोगों और सेना ने ढूंढ निकाला था. परिवार और गाँव से लोग भी सूचना मिलते ही घटनास्थल की ओर रवाना हो गये थे. पोस्टमार्टम के बाद रात को ही शव को घर लाया गया था. सोमवार सुबह सैनिक की अंतिम यात्रा में हजारों लोगों ने भाग लिया.

चचेरे भाई ने दी मुखाग्नि

सोमवार को त्रिवेणी शमशान घाट में सेना की टुकड़ी ने नम आँखों से मृतक को अंतिम सलामी दी. मृतक की चिता को उसके चचेरे भाई ने मुखाग्नि दी. हर कोई इस अनहोनी घटना से हतप्रभ था तथा नम आँखों से सभी ने अंतिम विदाई दी.

सरस्वती परिवार ने जताया हादसे पर दुःख

उधर सरस्वती विद्या मंदिर टिकरू के प्रधानाचार्य ने बताया कि सनी उनका भी स्टूडेंट रहा था तथा सुबह की प्रार्थना सभा में मृतक की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की गई तथा समस्त सरस्वती परिवार ने शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की.

जोगिन्दरनगर की लेटेस्ट न्यूज़ के लिए हमारे फेसबुक पेज को
करें।