दादा पोता कने मैचा रा हाल

असे… हाँऊ, मेरा पापा (सॉरी पापाजी), कने मेरा भतीजा शिवा मैच लगीरे थे देखणा..
दादा शिवे जो बोलदा, “कुण लगीरा वे बोल कराणा”..
शिवा बोलदा, “दादा भुवनेश्वर लगीरा कराणा”..
ताली ए चौका लगदा..
दादा बोलदा, “वे कुसरी बोला मंझ लगेया?”

——————————————-

पँज विकटा उडी गेईरी थी..
दादे शिवे गे पूछेया, “केतणी विकटा उडी गेई?”..
“पँज विकटा”, शिवे बोल्या..
दादा झट बोलदा, “मैँ सोचेया छः”

-- advertisement --
जोगिंदरनगर से जुड़ने/जोड़ने की हमारी इस कोशिश का हिस्सा बनें। इस न्यूज को
करें और हमारे फेसबुक पेज को भी
करें। इससे न केवल आप हमें प्रोत्साहित करेंगे बल्कि जोगिंदरनगर की लेटैस्ट न्यूज भी प्राप्त कर सकेंगे।