परोण्यों पाणी-पूणी भी पी करा

कुसकी रे घरा इक परोणा आया. परोणा था बड़ा भुक्खड़. मतलब सै बड़ा भारी खांदा था. घरा वाल्या जो पता ता था कि सै मता सारा खांदा पर कितणा खांदा एह नी था पता. बडा टब्बर था ता तिन्हे सोच्या चलो पहले इस्सो ही ख्वाई लैंदे. आपु फेरी खांगे सब जणे.

अच्छा जी परोणा बैठिया खाणा-खाणा. सै खांदा गया खांदा गया कन्ने घरथैणी (घर-मालकन) देंदी गयी. अधा खाणा मुकिया पर परोणा कुथी मन्नो. सै ता खांदा ए रेहया. हुण ता खाणा भी मुक्की आया पर सै भिरी खांदा रेहया.

हुण घरथैणीयां ते नी रही होया. सै बोली, “परोण्यों पाणी-पूणी भी पी केरा” (मतलब पानी वगैरा भी पी करा. सै मतलब हिंट लगिरी थी देंदी). ता परोणा बोलदा. “हांजी-हांजी जरूर पीणा पाणी भी. कानी पीणा. पर गल्ल एही कि जाली जे हऊँ अध् खांदा हुंदा तांई पींदा हऊँ पाणी.. जरूर पीणा मैं पाणी भी!!!”

…कने घरथैणी बेहोश होई गेई!

Facebook Comments