परिवार पर भारी पड़ा जंगली मशरूम (छाछें) खाना

जोगिन्दरनगर : बरसात का मौसम शुरू होते ही जंगलों में जंगली मशरूम भी उगना शुरू हो जाते हैं. स्थानीय लोग इन्हें छाछें कहते हैं. हमने पहले भी एक समाचार जिसमें एक ही परिवार के 7 सदस्य बीमार हो गये थे के द्वारा सभी को आगाह किया था कि जंगली मशरूम बिना जांच पड़ताल के न खाएं लेकिन लोग बिना जांचे परखे इन्हें खा लेते हैं जिससे उनकी जान पर बन आती है. कृपया बिना जांच परख कर इन्हें बिलकुल न खाएं.

बाद में पढ़ें: जानलेवा हो सकती है जंगली मशरूम, ऐसे पहचाने

जोगिन्दरनगर उपमंडल में टिकरू पंचायत के तहत भजकैड़ा गाँव के रूप लाल उर्फ़ गुड्डू का परिवार भी इस समय अस्पताल में उपचाराधीन है. सुबह के समय परिवार के सदस्य जंगली मशरूम लेकर आये जिसे पूरे परिवार ने चावल के साथ खाया. दोपहर को जब तबियत बिगड़ने लगी तो एम्बुलेंस को फोन किया गया तथा तुरंत अस्पताल ले जाया गया. रूपलाल तथा उसकी पत्नी, बेटा, बहु, पोता तथा एक मेहमान भी जंगली मशरूम खाने के कारण अस्पताल में उपचाराधीन हैं तथा अब खतरे से बाहर हैं.

सम्बंधित: जंगली मशरूम खाने से एक ही परिवार के 10 लोग बीमार

Facebook Comments