माँ भीमाकाली मंदिर : मंडी, हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश देवी देवताओं का प्रदेश है. यहाँ के देवी देवताओं को लोग पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ पूजते हैं तथा उनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं. प्रदेश के हर जिले का हर मंदिर अपनी कोई न कोई विशेषता लिए हुए है.

DSCF0700

ब्यास नदी के किनारे स्थित है मंदिर

इसी प्रकार जिला मंडी हिमाचल प्रदेश में मंडी -पठानकोट राष्ट्रीय राजमार्ग पर ब्यास नदी के तट पर स्थित है माँ भीमाकाली मंदिर. माँ काली दुर्गा का ही रूप है जिसे भारत के उत्तर पूर्वी भागों में व्यापक रूप में पूजा जाता है. भीमाकाली का यह मंदिर मुख्य बस स्टैंड मंडी से मात्र 1 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

पढ़ें: माता सिमसा मंदिर – संतान देने वाली शिशु-दात्री शारदा माता

यादव अनुनायियों ने बनाया था यह मंदिर

इस जगह भगवान श्री कृष्ण ने बानासुर को मार डाला था । कृष्ण के बाद  उनके यादव अनुयायियो ने इस मंदिर को बनवाया था । माता भीमाकाली को रामपुर बुशहर के राजाओ की आराध्या देवी माना जाता है और भीमाकाली देवी का प्रसिद्ध मंदिर और मुख्य मंदिर सराहन में ही माना जाता है.

तीसरी मंजिल में विराजमान है माँ

इस मंदिर की महत्ता भी कम नही है और यहां हर साल काफी बडे स्तर पर काली देवी की पूजा की जाती है । मंदिर परिसर काफी सुंदर बनाया गया है और एक लम्बे से घुमावदार रास्ते से चलकर दूसरी मंजिल और फिर तीसरी मंजिल पर पहुंचा जाता है। सबसे उपर की मंजिल पर माँ विराजमान है.

सुन्दर वाटिका भी है यहाँ

स्थानीय मंदिर संस्थान के प्रयासों से यहाँ माँ के मंदिर परिसर में सुंदर फूलों की वाटिका बनाई गई है. इसके साथ -साथ बच्चों के मनोरंजन का भी पूरा ध्यान रखा गया है. मंदिर संस्थान ने नदी के किनारों को भी काफी सुंदरता से सजाया है. मंदिर के दाहिनी तरफ नीचे की ओर शेरों की मूर्तियाँ सुन्दर बनाई गई हैं. इसी स्थान पर वन को जाते पांडवो की प्रतिमायें भी लगायी गई हैं जो पांडव काल की याद ताज़ा करती हैं.

ऐसे पहुंचें यहाँ

मंदिर तक ऑटो सेवा हर समय उपलब्ध रहती है. पठानकोट से जोगिन्दरनगर तक रेलवे मार्ग द्वारा पहुँच सकते हैं तथा जोगिन्दरनगर से सड़क मार्ग द्वारा इस स्थान की दूरी 57 किलोमीटर है. चंडीगढ़ से हर समय बस सेवा यहाँ के लिए उपलब्ध रहती है. अगर दूसरे रेलमार्ग द्वारा आना हो तो कालका या शिमला से होते हुए सड़क मार्ग द्वारा यहाँ पहुँचा जा सकता है.

मंदिरों से सम्बंधित सभी ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

Facebook Comments